माना की अँधेरा घना है लेकिन दिया जलाना कहा मना है ?

एक दशक पहले बाघमारा में गुंडों और माफियों का राज हुआ करता था और किसी को आवाज तक उठाने की मनाही थी ।पर आज हर घर में ढुल्लू महतो है जो गरीबों पर उठने वाले किसी हाथ को रहने नहीं देगा ।श्यामडीह  मोड़ पर आयोजित एक कार्यक्रम की कुछ तस्वीरें जिसमें बाघमारा की जनता ने अपने जनसैलाब से यह दिखा दिआ की,आप सभी का आशीर्वाद हमेशा मेरे साथ है|

 

 

 

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked*