12341462_1010457908997787_5503175444204944123_n

पुना महतो सेवा संस्थान

आज बरसों की एक परिकल्पना सच हुई I अपने पिता स्वर्गीय पुना महतो जिसने मेरे हाथों को पकड़ कर चलना सिखाया और बताया की जीवन सिर्फ़ अपने लिए नही दूसरो के लिए भी जीना होता हैं I इसी मुहिम को मन मे लिए बहुत दिनो के अथक प्रयास से आज हम इस मुकाम पर खड़े हैं जहा यह कह सकते हैं की मैने आम जनता की भलाई के लिए जो बीड़ा उठाया था आज उसके बहुत करीब हम पहुच चुके हैं I आज का दिन मेरे जीवन का सबसे सुखद हैं
आप सभी का सहयोग और आशीर्वाद के लिए धन्यवाद

 

0

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked*